रक्षाबंधन पर शिवराज को राखी बांधने के लिए 400 किलोमीटर पैदल सफर तय कर आई, लाडली बहना मुख्यमंत्री ने दिया उपहार


नमस्कार दोस्तों सीएम शिवराज को राखी बांधने के लिए लाडली बहनों को इतना अटूट प्रेम और विश्वास हो गया है हैं शिवराज भैया पर बहनों का बहुत विश्वास आ गया है क्योंकि रक्षाबंधन के दिन एक लाडली बहना की एक महिला ने 15 दिन पहले मन में ठाना था कि मैं स्वयं अपने हाथों से शिवराज भैया को राखी बांधूंगी रक्षाबंधन के दिन लाडली बहना ने 400 किलोमीटर की पद यात्रा कर शिवराज निवास पर ही पहुंचकर अपने हाथों से राखी बांधी चलिए दोस्तों आखिर जान लेते हैं कहां की रहने वाली है वह शिवराज भईया की लाडली बहना महिला किस कारण से राखी बांधने के लिए वह पैदल आए कुछ आस्था विश्वास था शिवराज भैया पर।

छतरपुर की रहने वाली लाडली बहना विमला और पति हरि प्रजापति ने सीएम को राखी बांधने के लिए अपने घर छतरपुर जिले से भोपाल तक 400 किमी का सफर 15 दिन में पैदल तय किया सीएम की कलाई पर राखी बांधने के बाद उसने कहा कि आज मेरा संकल्प पूरा हुआ सीएम शिवराज ने उपहार देकर सम्मान बहन को विदा किया बता दें एमपी में रक्षाबंधन पर सीएम शिवराज ने प्रदेश भर की लाडली बाहनों को कई तोहफों की घोषणा भी की थी।

इसे भी पढ़े – मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने लाड़ली बहनों को किया खुश, रक्षाबंधन के अवसर पर दिया इतना बड़ा गिफ्ट, जानिए क्या दिया गिफ्ट

सीएम शिवराज का लाडली बहन को ट्वीट पर संदेश

छतरपुर की रहने वाली लाडली बहना विमला हरि प्रजापति ने सीएम को राखी बांधने के लिए अपने पति के साथ छतरपुर से भोपाल तक 400 किमी का सफर 15 दिन में पैदल तय किया। सीएम की कलाई पर राखी बांधने के बाद उसने कहा कि आज मेरा संकल्प पूरा हुआ. सीएम शिवराज ने उपहार देकर ससम्मान बहन को विदा किया। बता दें एमपी में रक्षाबंधन पर सीएम शिवराज ने प्रदेश भर की लाडली बाहनों को कई तोहफों की घोषणा भी की थी
आज रक्षाबंधन के पावन अवसर पर 400 कि.मी. से अधिक की पदयात्रा कर भोपाल पहुँची लाड़ली बहन विमला से भेंट कर हृदय भाव विभोर हो गया।

बहन ने लाड़ली बहना योजना हेतु आभार प्रकट करने के लिए छतरपुर से भोपाल तक पदयात्रा का संकल्प लिया था, जो आज पूरा हुआ।
जब मैंने बहन से पूछा कि तुम पैदल क्यों आईं, मुझे बुला लिया होता, तब बहन ने उत्तर दिया कि भाई के प्रति मन में जो भावना तथा खुशी थी, उसे पैदल चलकर ही व्यक्त करना था।
सचमुच में बहनें ममता की मूरत होती हैं। बहन विमला के इस संकल्प तथा प्रेम के आगे नतमस्तक हूँ। आज बहन अपने भाई के घर आई है, अब भाई भी अपनी बहन के घर जरूर जाएगा।
साथ ही दंपति को विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिले, इसके निर्देश भी मैंने दिए हैं।

छतरपुर से पैदल पहुंची दंपति विमल प्रजापति cm के घर

शिवराज सिंह की लाडली और प्यारी बहना है में से एक बहाना छतरपुर से 15 दिनों में पैदल सफर कर 400 किलोमीटर की यात्रा पूर्ण का रक्षाबंधन के दिन पहुंची विमल प्रजापति cm शिवराजू के घर भोपाल में विमला ने सीएम का जताया आभार कहां लाडली बहन योजना मेरे लिए ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश और देश के लिए महिलाओं का सम्मान हैं।
मुख्यमंत्री ने टीका कर भेंट की राशि
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लाड़ली बहना को राखी बांधने के बाद टीका कर भेंट की राशि. मुख्यमंत्री ने प्रजापति दंपति को कहा कि वे छतरपुर उनके घर भी जरूर आएंगे.




Leave a Comment